Tuesday, March 1, 2011

भोथरा हथियार

4 comments:

  1. जगोता जी, काग़ज़ और कलम से सरकारें तो पलटती देखी हैं। यह मंहगाई क्यों नहीं मरती काग़ज़ के तीर से?

    ReplyDelete
  2. जरूर मर सकती है अगर कागजों पे लिखे इबारत जमीनी हकीकत में बदल जाय तो ......

    ReplyDelete
  3. सही निशाना लेकिन औजार मोथरा..

    ReplyDelete